होली है

दूर से होली खेलो, ना छुओ गलत तरह

होली हमारे देश के सबसे ज्यादा मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक है। कहा के दिन दिल मिल जाते हैं। इसका अर्थ सिर्फ इतना है कि होली वाले दिन तो दुश्मन भी दोस्त बन जाते हैं। पर क्या यह सत्य है।

“मम्मी, मम्मी ” – पांच साल की आरजू अपनी मां को बुला रही थी।

“हाँ क्या हैं” – मां ने पूछा।

“मैं होली खेलने जाऊ” – आरजू ने मासूमियत से कहा।

” नहीं, नहीं कहीं नहीं जाना। घर पे खेलो होली, बाहर नहीं जाना। बाहर का माहौल बहुत खराब हैं।” – मां ने जवाब में कहा।

“पर मां मेरे सभी दोस्त बाहर है।” – आरजू ने अपनी प्यारी सी आवाज में कहा।

“नहीं जाना तो नहीं जाना बस बोल दिया ना” – मां ने गुस्से में कहा।

जरा सोचिए एक पांच साल की बच्ची जिसके खेलने कूदने की उम्र है । उसे हम खेलने से ही रोक रहे है। आखिर क्यों, उनकी गलती क्या है?

जी हां, उनकी कोई गलती भी नहीं।

हमारा आज का समाज सिर्फ लड़कियों का ही नहीं बच्चों का भी दुश्मन हैं।

चाहे कोई लड़की हो या कोई बच्चा हमारे समाज में कोई सुरक्षित नहीं है।

लड़कियों और बच्चों को बाहर जाने की ना इजाज़त मिलती हैं, न ही वे खुद बाहर जाना चाहती हैं, वो भी होली के दिन। ऐसा क्यों ?

सबके लिए होली को सुरक्षित बनाए

क्योंकि इस दिन रेप, छेड़छाड़ और अपहरण के सबसे ज्यादा केस आते है। इसीलिए न तो माता – पिता भेजना चाहते हैं उन्हें कहीं बाहर, न वो खुद जाना चाहती है।

होली मुबारक बोलने से पहले मैं आप सब से एक छोटी – सी गुजारिश करना चाहती हूं कि सिर्फ होली ना खेले बल्कि ये प्रण भी ले कि आप सब होली को लड़कियों और बच्चों के लिए सेफ भी बनाएंगे और सिर्फ होली को ही नहीं देश को भी उनके लिए सेफ बनाएंगे।

अगर आपको कोई भी व्यक्ति कुछ अपराधिक प्रवृति का दिखे या किसी से बस्तमीज़ी करता दिखे तो आप तुरंत उसकी मदद करेंगे। ताकि फिर से लडकियां और बच्चे बाहर आकर हम सब के साथ होली खेल सके।

पोस्ट को पढ़ने के लिए धन्यवाद।

आप सभी को होली की बहुत सारी शुभकामनाएं।

जय हिंद। जय भारत।

राधे राधे।

22 responses to “होली है”

  1. brilliantly said…
    awareness is the first step toward safety and carelessness will result in an unintentional consequence…
    belated happy holi… i am sorry 😞…
    have a wonderful day…

    Liked by 3 people

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: